Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ

जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भी हैं दुर्भाग्य ही है और आपने पतन का सामान इकट्ठा कर लिया है।

1 Like · 1 Comment · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कबीर के राम
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
रामदीन की शादी
रामदीन की शादी
Satish Srijan
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
होली
होली
Mukesh Kumar Sonkar
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Success is not final
Success is not final
Swati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
दिए जलाओ प्यार के
दिए जलाओ प्यार के
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
"कुपढ़ बस्ती के लोगों ने,
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...