Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2022 · 1 min read

जनवासा (कुंडलिया)

जनवासा (कुंडलिया)
——————————————-
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात
कब नखरे कब रूठना ,नाराजी की बात
नाराजी की बात , बराती नखरे करता
लड़की का था बाप, हाथ को जोड़े डरता
कहते रवि कविराय,झमेला अच्छा-खासा
रूकती जहाँ बरात,धर्मशाला जनवासा
——————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 9761 5451

182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*प्रणय प्रभात*
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
युग अन्त
युग अन्त
Ravi Shukla
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
अहंकार
अहंकार
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
"बदबू"
Dr. Kishan tandon kranti
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक _ चलें हम राह अपनी तब ।
मुक्तक _ चलें हम राह अपनी तब ।
Neelofar Khan
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
Shweta Soni
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
डॉक्टर्स
डॉक्टर्स
Neeraj Agarwal
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
दुखों से दोस्ती कर लो,
दुखों से दोस्ती कर लो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
With Grit in your mind
With Grit in your mind
Dhriti Mishra
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
Loading...