Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।

जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
आश्वासन के जाल में , खा जाता वो मात ।
भूले अपनी भूख को , देखे झूठे ख़्वाब –
संचित करता रात-दिन, वादों की बरसात ।

सुशील सरना 3224

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
पूर्वार्थ
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
#सारे_नाते_स्वार्थ_के 😢
#सारे_नाते_स्वार्थ_के 😢
*Author प्रणय प्रभात*
Destiny
Destiny
Sukoon
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
दिल
दिल
Er. Sanjay Shrivastava
सात जन्मों की शपथ
सात जन्मों की शपथ
Bodhisatva kastooriya
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
रात भर इक चांद का साया रहा।
रात भर इक चांद का साया रहा।
Surinder blackpen
"वक्त वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
पैसा  (कुंडलिया)*
पैसा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...