Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।

छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
अधरों पर है हास मगर भीग रही नयनों की कोर।

© सीमा अग्रवाल

3 Likes · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
2686.*पूर्णिका*
2686.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
पिता
पिता
Dr.Priya Soni Khare
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
👍
👍
*Author प्रणय प्रभात*
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
16---🌸हताशा 🌸
16---🌸हताशा 🌸
Mahima shukla
Loading...