Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2018 · 3 min read

“छिपकली दीवार की”

मकान के दूसरे मंजिल का कमरा जो बिलकुल किनारे पड़ता है ,कमरे की एक खिड़की बाहर की तरफ खुलती है | जिससे सड़क पर आने जाने वालों की सारी हलचल का पता चलता रहता है | रोज की तरह आज भी मै दोपहर के समय स्कूल से घर लौटा तो सीधे अपने कमरे में चला गया | सब कुछ सामान्य था | जैसे ही मैं आराम करने के लिए बिस्तर पर लेटा तभी मेरी नजर सामने वाली दीवार पर लगी घड़ी की तरफ़ गई | मैंने देखा एक छिपकली बड़ी शांत अवस्था में दीवार से चिपकी हुई है |वैसे तो कमरे में कई बार छिपकलियों का आना जाना रहा लेकिन हर बार वह मेरे द्वारा बाहर भगा दी गईं,पर मैंने इस बार सोंचा की प्रकृति ने जिस प्रकार हमें कहीं भी रहने,अपना घर बनाने की स्वतंत्रता प्रदान की है —-यह भी प्रकृति का ही एक प्राणी है अगर हमें कोई हमारे घर से बाहर निकाल दे तो कितनी तकलीफ होगी | यही सोंचकर मैंने आज उसे अपने कमरे में रहने दिया | वह बड़ी शांति पूर्वक अपनी जगह पर बैठकर किसी शिकार का इंतजार करने लगी ——–धीरे-धीरे शाम हो गई और मै भी अपने किसी काम से बाहर चला गया ,रात को देर से वापस आने के कारण जल्दी ही सो गया | सुबह सोकर उठा तो देखा छिपकली पूरे हक के साथ कमरे की दूसरी दीवार पर विचरण कर रही है |धीरे-धीरे समय बीतता गया और उसने दीवार पर लगी घड़ी के पीछे वाले हिस्से को अपना घर बना लिया |अब वह कहीं दूसरी दीवार पर भी नहीं जाती |वहीँ बैठकर जो भी शिकार मिल जाता उसी से अपना पेट भर लेती |मेरे द्वारा उसकी हर एक गतिविधि पर ध्यान रखते-रखते न जाने कब वह मेरे जीवन का एक हिस्सा बन गई |अब तो कमरे में दाखिल होते ही सबसे पहली नजर उसी दीवार घड़ी पर जाती जिसके पीछे वह बैठती थी |अगर कुछ पल तक वह दिखाई न दी तो मेरी आँखें बेचैनी से चारों तरफ उसे ढूँढने लगतीं|समय के साथ अब वह मेरी दोस्त बन चुकी थी |—————-एक दिन मै अपने स्कूल से वापस लौटकर जैसे ही कमरे में दाखिल हुआ ,मैंने सबसे पहले दीवार की तरफ़ देखा लेकिन आज वह मुझे दिखाई नहीं दी |मैंने सोंचा शायद कहीं शिकार की तलाश में इधर उधर भटक गई होगी सो अपने बिस्तर पर लेटकर सो गया |सुबह प्रतिदिन की दिनचर्या के हिसाब से स्कूल चला गया |जब स्कूल से वापस लौटकर आया और दीवार घडी के पास गया तो देखा छिपकली अब भी वहाँ नहीं थी |
अब तो मुझे चिंता होने लगी |सब जगह खोज लिया लेकिन वह नही मिली |मन व्याकुल हो रहा था ,ऐसा लग रहा था मानो कोई सच्चा साथी बिछुड़ गया हो |मैंने सम्भावित सभी जगह उसे खोज लिया लेकिन कुछ भी पता नहीं चला |निरास होकर मैं अपने बिस्तर पर बैठ गया |अभी उसी के बारे में ही सोंच रहा था कि मेरी नजर कमरे के दरवाजे पर पड़ी ,दरवाजे और दीवार के बीच बहुत थोड़ी सी जगह थी |मुझे कुछ दिखाई पड़ा,अनिष्ट की आशंका से मेरा मन भयभीत हो गया |दौड़कर दरवाजे के पास गया तो देखा शायद किसी शिकार की वजह से वह छिपकली दरवाजे के पास आई होगी और किसी के द्वारा दरवाजा बंद कर देने से संकरी जगह में दबकर उसकी मृत्यु हो गई |मन में एक जोर का झटका लगा एक छोटे से प्राणी के प्रति इतना लगाव आज महसूस किया |कुछ क्षण के लिए तो स्तब्ध रहा गया समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें एक छोटे से मूक प्राणी से बिछड़ने पर यह स्थिति होती है, तो न जाने किस तरह से इंसान-इंसान की हिंसा कर देता है जो कि भावनाओं का स्रोत है ——–शायद उसकी यही नियति थी लेकिन वह मेरे मन मष्तिष्क पर गहरा घाव और प्रभाव छोड़ गई |

अमित मिश्र
जवाहर नवोदय विद्यालय
नोन्ग्स्टोइन

Language: Hindi
1 Like · 543 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैंने खुद की सोच में
मैंने खुद की सोच में
Vaishaligoel
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
Vipin Singh
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"करने वाला था नहीं, कोई दुआ-सलाम।
*प्रणय प्रभात*
Loading...