Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

छल ……

छल ……

कल
फिर एक
कल होगा
भूख के साथ छल होगा
आशाओं के प्रासाद होंगे
तृष्णा की नाद होगी
उदर की कहानी होगी
छल से छली जवानी होगी
एक आदि का उदय होगा
एक आदि का अन्त होगा
आने वाला हर पल विकल होगा
जिन्दगी के सवाल होंगे
मृत्यु के जाल होंगे
मरीचिका सा कल होगा
तृष्णा तृप्ति का छल होगा
सच
कल
भोर के साथ
फिर एक कल होगा
भूख के साथ
छल होगा

सुशील सरना / 8-3-24

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
10. जिंदगी से इश्क कर
10. जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
*प्रणय प्रभात*
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मन वैरागी हो गया
मन वैरागी हो गया
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
धमकियाँ देना काम है उनका,
धमकियाँ देना काम है उनका,
Dr. Man Mohan Krishna
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
कथनी और करनी
कथनी और करनी
Davina Amar Thakral
माँ भारती की पुकार
माँ भारती की पुकार
लक्ष्मी सिंह
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मत छोड़ो गॉंव
मत छोड़ो गॉंव
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
"भीमसार"
Dushyant Kumar
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
"वेश्या का धर्म"
Ekta chitrangini
Loading...