Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 2 min read

छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार

छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
हमर छत्तीसगढ़ हमेशा ले अपन संस्कृति अऊ परम्परा के खातिर पहचाने जाथे, इहां के सुग्घर नंदिया-नरवा, जंगल-पहाड़, खेत-खार, बाग-बगीचा मन के सुंदरता हा मन ला मोह लेथे, तभे तो जऊन मनखे भी इहां आथे ओ इहें के होके रही जथे।

सुग्घर नजारा के अलावा इहां के संस्‍कृति अऊ परम्‍परा घलो बड़ मनमोहक हावे, छत्‍तीसगढ़ के संस्‍कृति मा तिहार, परब मनके विशेष महत्‍व हावे, ए तिहार मन मा सबले पहिली हरेली आथे। हरेली तिहार मा गांव के संस्कृति अऊ परम्परा के सुग्घर झलक दिखथे, तेकरे सेती एला छत्तीसगढ़िया संस्कृति अऊ परम्परा के तिहार कहे जाथे।

हरेली तिहार ला सावन महीना के कृष्ण पक्ष अमावस के बेरा मा मनाए जाथे। हरेली तिहार किसान अऊ छत्तीसगढ़िया मनके तिहार हरे, जईसे कि एकर नाम ले ही पता चलथे हरेली के मतलब प्रकृति के चारों खुट हरियाली से होथे।

मानसून आए के बाद सावन महीना मा जब झमाझम बरसा होवत रथे अऊ चारो डहार फसल बोवाई होके हरियाली फैल जाथे तब किसान मन अपन अपन खेत में जोताई, रोपाई, बोआई, बिआसई जईसे काम मन ला पूरा करके ए हरेली तिहार ला मनाथे।

ए दिन जम्मो किसान भाई मन अपन खेत मा उपयोग होवैया औजार जैसें- नागर, जुड़ा, रापा, हंसिया, कुदारी, गैती, टंगिया, बसला, बिन्दना, आरी, पटासी, साबर जईसे समान मनमें, हरदी, दूध, चाउर पीसान ला पानी मा घोर के ओला सब औजार मन ऊपर छिडकथे, अऊ चाउर के बने चीला रोटी, नरियर, हुम-जग से औजार अऊ धरती मईया के पूूजा करथे।

तिहार के दिन सबो घर मा रोटी पीठा जैसे- चीला, सोहारी, बरा, खुरमी, ठेठरी, अइरसा, भजिया ला बनाथे फेर खुद खाथे अऊ पड़ोसी मन ला घलो खाए बर बलाथे अऊ हरेली तिहार के खुशी ला दुसर मन संग घलो बांटथे।

तिहार के दिन गांव मन मा कई किसम के खेल खेले अऊ खेलाए जाथे खेलों जैसे- मटका फोड़, गोली चम्मस, जलेबी दौड़, गेडी दौड, गेड़ी नाचा। एमे गेड़ी दौड़ अऊ गेड़ी नाचा हरेली बर खास खेल हरे। ए खेल मा लइका, सियान, माई लोगन सबो झन हिस्सा लेथे, ए खेल मन ले ए तिहार मा शोभा बढ़ जाथे।

अब तो छत्तीसगढ़ सरकार तरफ ले अपन संस्कृति अऊ परम्परा ला बचाये खातिर हरेली परब मा पारंपरिक खेल के आयोजन करे जाथे। स्कूल मन मा घलो लइका मन ला फुगड़ी, कुर्सी दौड़, गोली चम्मच जैसे खेल खेलाके एला एक प्रतियोगिता के रूप देके जितईया मन ला इनाम दे जाथे, जेकर ले सबो झन् खेल मा अऊ जादा उत्‍साह से भाग लेवय।
अईसने हमन सबो छत्तीसगढ़िया मनखे मन अपन पहिली तिहार हरेली ला बड़ धूमधाम ले मनाथन।
जय छत्तीसगढ़ महतारी! छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया!
✍️ मुकेश कुमार सोनकर
रायपुर, छत्तीसगढ़
मोबाईल 9827597473

1 Like · 535 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
धारण कर सत् कोयल के गुण
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
*प्रणय प्रभात*
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
आज रविवार है -व्यंग रचना
आज रविवार है -व्यंग रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
मुझे मालूम हैं ये रिश्तों की लकीरें
मुझे मालूम हैं ये रिश्तों की लकीरें
VINOD CHAUHAN
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
* ये शिक्षक *
* ये शिक्षक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
SURYA PRAKASH SHARMA
.
.
Amulyaa Ratan
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
*माँ : दस दोहे*
*माँ : दस दोहे*
Ravi Prakash
मातृदिवस
मातृदिवस
Satish Srijan
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...