Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को

चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
राष्ट्रविरोधी सारी ताकतें एकजुट हैं सरकार गिराने को
भ्रष्टाचारियों के हे सिरमौर कुछ तो शर्म लिहाज करो
दागदार दामन ले अपना चले हो प्रजातंत्र को झुकाने को

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मध्यप्रदेश

27.7.2023

379 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er. Sanjay Shrivastava
View all
You may also like:
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
Neerja Sharma
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
"यादें अलवर की"
Dr Meenu Poonia
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
Umender kumar
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
Shweta Soni
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
कायम रखें उत्साह
कायम रखें उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
Suryakant Dwivedi
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
Ravi Prakash
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...