Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2021 · 1 min read

चोट

प्रोफेसर राय को उनकी कृति ‘स्त्री:तेरी कहानी’ के लिए आज सम्मानित किया जाना था।प्रोफेसर कालोनी से लगभग सभी उनके सम्मान समारोह में जा रहे थे।कुछ औरतें मिसेज राय को भी बुलाने जा पहुंची।’ना’ करते हुए मिसेज राय ने रात की घटना बताई कि कैसे वो सीढियों से फिसल कर गिर गई थीं और उन्हें माथे में चोट भी लग गई थी।लेकिन बहुत मना करने पर भी अंततः हारकर मिसेज राय को कार्यक्रम में जाना ही पड़ा।

प्रोफेसर राय मंच पर बोल रहे थे।अचानक प्रोफेसर राय की नजर मिसेज राय पर पड़ी और वे अपना भाषण भूल किसी सोच में डूब गए।कुछ देर बाद मिसेज राय की चोट को देखते हुए उन्होंने अपना भाषण पुनः शुरू किया-हाँ तो,मैं कह रहा था कि औरतों पर बल-प्रयोग किसी पुरूषत्व की निशानी नहीं वरन् कायरता का द्योतक है………।भाषण देते वक्त प्रोफेसर राय की नजरें अब नीचे झुकी हुईं थी,आवाज भी कुछ फीकी पड़ गयी थी और मिसेज राय के अंतस में तो बस रात वाली घटना चक्कर काट रही थी लेकिन ये घटना उस घटना से भिन्न थी जो मिसेज राय ने पड़ोस की औरतों को बताया था।

आकांक्षा राय(शोधार्थी)
हिंदी तथा आधुनिक भारतीय भाषा विभाग
लखनऊ विश्वविद्यालय

12 Likes · 6 Comments · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चुनावी घोषणा पत्र
चुनावी घोषणा पत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
अभिमान
अभिमान
Shutisha Rajput
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
कवि दीपक बवेजा
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*Author प्रणय प्रभात*
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
Ravi Prakash
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
जी लगाकर ही सदा,
जी लगाकर ही सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...