Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

चील …..

चील ……..

कभी आसमान में
उड़ती चीलों के जमघट से
जमीन पर
किसी जानवर के मरने का
एहसास होता था
सड़ने गलने से पहले ही चीलें
उनके गोश्त को समाप्त कर
उस जगह को साफ़ कर देती थी
शायद
ईश्वर ने उनका वजूद
इसीलिए बनाया था
जानवर तो अब भी मरते हैं
पर
जाने क्यों
अब आसमान में
चीलें नजर नहीं आती
शायद
अब मरने मरने में
फर्क होने लगा है
अब मरे हुए जानवर से ज्यादा
इंसान में जिन्दा जानवर
सडांध मारने लगा है
चील की तेज दृष्टि
अब भ्रमित होने लगी है
मरे हुए जानवर से उसे
घिन्न नहीं आती थी
पर खुद को मार कर
अंदर के जानवर को
जिन्दा करने वाले
इंसान से उसे घिन्न आती है
शायद इसी लिये
इतनी सडांध के बावजूद
चील
जमीन पर नहीं आती

सुशील सरना / 21-1-24

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य और अमृत
सत्य और अमृत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
Manoj Mahato
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
Shashi kala vyas
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
*गरीबों की ही शादी सिर्फ, सामूहिक कराते हैं (हिंदी गजल)*
*गरीबों की ही शादी सिर्फ, सामूहिक कराते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
परिवर्तन
परिवर्तन
लक्ष्मी सिंह
वैर भाव  नहीं  रखिये कभी
वैर भाव नहीं रखिये कभी
Paras Nath Jha
"अभिमान और सम्मान"
Dr. Kishan tandon kranti
2533.पूर्णिका
2533.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
2) “काग़ज़ की कश्ती”
2) “काग़ज़ की कश्ती”
Sapna Arora
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
Neelam Sharma
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बेजुबानों से प्रेम
बेजुबानों से प्रेम
Sonam Puneet Dubey
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ स्वाद के छह रसों में एक रस
■ स्वाद के छह रसों में एक रस "कड़वा" भी है। जिसे सहज स्वीकारा
*प्रणय प्रभात*
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
Loading...