Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

चीर हरण ही सोचते,

चीर हरण ही सोचते,
दुर्योधन-धृतराष्ट्र
सत्ता की अन्धी हवस,
तोड़ रही यूँ राष्ट्र
—महावीर उत्तरांचली

1 Like · 450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
💐प्रेम कौतुक-506💐
💐प्रेम कौतुक-506💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
*आओ सब स्वागत करें, मधुमय चैत महान (कुंडलिया)*
*आओ सब स्वागत करें, मधुमय चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
Anil chobisa
हे! ज्ञानदायनी
हे! ज्ञानदायनी
Satish Srijan
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
भूल गयी वह चिट्ठी
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
■ आदी हैं मल-वमन के।।
■ आदी हैं मल-वमन के।।
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
फटा जूता
फटा जूता
Akib Javed
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
विचार
विचार
Jyoti Khari
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
Loading...