Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 3, 2016 · 2 min read

चीन को उत्तर

सत्य है कि पाक की छटपटाहट से चीन बौखला जाता है,जो भी वजह हो किन्तु भारत के सिंधु जल मुद्दे पर निर्णय के पश्चात चीन द्वारा ब्रह्मपुत्र पर उठाये कदन को इसी का उदहारण माना जाना चाहिए l

समाधान भी यहीं पर है , जबकि बलूच खुद को पाकिस्तान से अलग करने के लिए रोज भारत से मन्नते कर रहा तो..

1- फिर उपयुक्त समय है कि इस मुद्दे को उस हद तक ले जाय कि पाक का दम घुटने लगे उसे एक एक सांस के लिए संघर्ष करना पड़े ..

2-सिंधु नदी द्वारा पाक पहुचाये जा रहे शेष जल का भी उसी प्रकार प्रवंध करें , इस नदी जल के उपयोग को सत प्रतिशत दोहन करने की योजना पर कार्य हो..

3- भारत के सभी नागरिकों द्वारा चीनी सामान का बहिष्कार हो और पुरानी आयातित वस्तुओं का सार्वजनिक दहन किया जाय,इस कार्य हेतु बाकायदा अभियान चलाया जाए,

4-इसके अतरिक्त पाक से सभी प्रकार के आर्थिक लेन देंन को तत्काल समाप्त किया जाना चाहिए l

5-दक्षिण एशियाई देशों जैसे वियतनाम से खुल कर बेहतर से बेहतर सम्बन्ध के लिए आगे बढे, पूरा सहयोग मिले वियतनाम को और इस बात का आभास पूरी दुनिया को हो l

6- भारत में बैठे पाकिस्तानी और चीनी अधिकारियो की आतंक संगरक्षित नीति को अपनाने और उसको प्रश्रय देने की बात सार्वजनिक कर इनकी तत्काल भारत से विदाई हो l

7- पाकिस्तान का दम कुछ यूँ घुटे कि वो खुद चीन के कदमो में जा कर बोले की अब बहुत हुआ हमें अब इस लड़ाई को और आगे नहीं ले जाना अब आप हमारी वजह से भारत की नीतियों में अवरोध न डालें क्योंकि अब भारत ने हमारा जीना हराम कर रखा है l

अधिकतम 6 माह या 1 वर्ष दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा सत प्रतिशत चीनी चिल्ली सॉस को तरसेंगे ????

करने दो हुंकार अब,बस मातृभूमि का सत्कार अब
बजने दो मृदंग,कर दो संखनाद अब,
भरो कुछ ऐसा ही दम्भ,कण कण में दिखे देश प्रेम का रंग,
चूल्हे हिले,भूचाल मानो,सर्वनाश की आहट पहचानो,
जीना सीखो और जीने दो कही छिंड जाये न धर्म-पाप की जंग ll

178 Views
You may also like:
जीवन मेला
DESH RAJ
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
गहरा सोचता है।
Taj Mohammad
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...