Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2023 · 1 min read

चिट्ठी पहुंचे भगतसिंह के

सरदार भगतसिंह
देख लअ आके
देसवा के एक बार…
(१)
पूंजि-पतियन के
दलाल बनल बा
आजकल के सरकार…
(२)
जनता सही तअ
केतना सही
महंगाई के मार…
(३)
निजी-करण के
रूप में कइसन
होखेला खिलवाड़…
(४)
खबर के नाम पर
कचरा परोसे
टीवी औरी अखबार…
(५)
नवका पीढ़ी
डिगरी लेके
भटकेला बेरोजगार…
(६)
चैन के रोटी
खाए ना देला
बहिनन के
हाहाकार…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#गीत #bollywood #song
#सियासत #राजनीति #अवाम
#महंगाई #बेरोजगारी #लाठीचार्ज
#lyricist #bhojpuri #singer
#BhagatSingh #patriotic

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
Dr.Pratibha Prakash
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग्रीष्म की तपन
ग्रीष्म की तपन
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
जो चाकर हैं राम के
जो चाकर हैं राम के
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
कवि दीपक बवेजा
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रीति के दोहे, भाग-2
प्रीति के दोहे, भाग-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
करपात्री जी का श्राप...
करपात्री जी का श्राप...
मनोज कर्ण
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-279💐
💐प्रेम कौतुक-279💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...