Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है…!!

यहीं धूल, यहीं मिट्टी,
यहीं अपनी कहानी है,
यहीं पे जन्मे, यहीं पे फैले,
यहीं पे मिट के रह जानी है,
चार दिनों की जिंदगी है,
यूँ हीं गुज़र के रह जानी है…!!

कुछ दिनों तक.. नन्हें-कवले बालक,
कुछ दिनों की.. हट्टी-कट्टी जवानी है,
कुछ दिनों तक.. हम गिरते-पड़ते मानव,
कुछ दिनों में.. आत्मा भी निकल जानी है,
चार दिनों की जिंदगी है,
यूँ ही गुज़र के रह जानी है…!!

धर्म – जाति, और ये ऊंच -नींच,
भेद -भाव, और ये रंग -रूप,
अमीर -गरीब, और ये नफ़ा -मुनाफ़ा,
और किस चीज की ठाट-ग़ुमानी है,
सब कर्म का खेल है बन्दे,
इसी के साथ अपनी रूह भी
एक दिन.. इस ज़िस्म से निकल जानी है,
चार दिनों की जिंदगी है,
यूँ ही गुज़र के रह जानी है…!!
❤️ Love Ravi ❤️

Language: Hindi
Tag: लेख
3 Likes · 447 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
21)”होली पर्व”
21)”होली पर्व”
Sapna Arora
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
"ला-ईलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
काव्य का राज़
काव्य का राज़
Mangilal 713
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
कुदरत के रंग....एक सच
कुदरत के रंग....एक सच
Neeraj Agarwal
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
*प्रणय प्रभात*
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
सत्य कुमार प्रेमी
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
हे चाणक्य चले आओ
हे चाणक्य चले आओ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
How to keep a relationship:
How to keep a relationship:
पूर्वार्थ
दिल चेहरा आईना
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...