Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

चांद जमीं पर आकर उतर गया।

वो तशरीफ क्या लाए रंगे महफिल बदल गया।
देखकर हुस्नों शबाब उनका हर दिल मचल गया।।

क्या बताए ताज हम तुमको ये रौनक ए बज्म।
यूं लगे जैसे आज चांद जमीं पर आकर उतर गया।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
World Environment Day
World Environment Day
Tushar Jagawat
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Wishing you a very happy,
Wishing you a very happy,
DrChandan Medatwal
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
सच्चाई के रास्ते को अपनाओ,
सच्चाई के रास्ते को अपनाओ,
Buddha Prakash
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
कृषक
कृषक
Shaily
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
DEVESH KUMAR PANDEY
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
राही
राही
RAKESH RAKESH
*कबूतर (बाल कविता)*
*कबूतर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
💐अज्ञात के प्रति-118💐
💐अज्ञात के प्रति-118💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डा० अरुण कुमार शास्त्री
डा० अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पागल
पागल
Sushil chauhan
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
बाईस फरवरी बाइस।
बाईस फरवरी बाइस।
Satish Srijan
Loading...