Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2016 · 1 min read

चाँद (हाइकू )

1
चाँद पर मैं
बना के एक बस्ती
संग रहूँगी

2
कर सिंगार
झिलमिल तारों काँ
मुस्कराऊँ मै

3
श्वेतवर्णी हो
धवल चन्दिका में
आसमां साफ

4
चाँद आगोश
में भर चाँदनी को
गहन निशा

5
चाँदनी भाव
विभोर हो कहने
चाँद से लगी

6
प्रिय बहुत
विशाल असीमित
नभ की दूरी

7
होती अकेली
मैं विस्त्तृत नभ में
डर जाती हूँ

8
बाहुँ पाश में
न बाँध पाऊँ चाँद
हो जाते दूर

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
72 Likes · 518 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
चिंपू गधे की समझदारी - कहानी
चिंपू गधे की समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तों के
रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
When you start a relationship you commit:
When you start a relationship you commit:
पूर्वार्थ
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
नवीन जोशी 'नवल'
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हवा तो थी इधर नहीं आई,
हवा तो थी इधर नहीं आई,
Manoj Mahato
#एकताको_अंकगणित
#एकताको_अंकगणित
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
VINOD CHAUHAN
"जल"
Dr. Kishan tandon kranti
2603.पूर्णिका
2603.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*प्रणय प्रभात*
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Love is
Love is
Otteri Selvakumar
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
*लता (बाल कविता)*
*लता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...