Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।

चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
हवा ख़िज़ाँ की बसें फिर शब-ए-बहार की तरह।
निगाह आप से कुछ इस तरह थी मिली ‘नीलम’
कृष्ण -राधा की मुहब्बत के इख़्तियार की तरह ।।
नीलम शर्मा ✍️

239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Neelam Sharma
View all
You may also like:
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
Dr MusafiR BaithA
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*Author प्रणय प्रभात*
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
मां शारदे को नमन
मां शारदे को नमन
bharat gehlot
"खुदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल की बात
दिल की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने ग़मों को भी संभालना सीखा दिया।
Manisha Manjari
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
पूर्वार्थ
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
2517.पूर्णिका
2517.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
Mystery
Mystery
Shyam Sundar Subramanian
मांँ की सीरत
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
Loading...