Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

*** चल अकेला…….!!! ***

” न आयेगा कोई इधर मदद करने …
बस कुछ रोशनी के इशारे चलने होंगे…..!
पांवों में होंगे थकान….
मन भी होगा कुछ परेशान…..;
नजरों में उम्मीद के झलक भी…
ओझल होने लगेंगे….!!
अनचाहे कभी इधर…
कभी उधर…,
चलने के इशारे होंगे….!
मन डगमगा…
पतझड़ मौसम के हवाले होने लगेंगे….!!
शरारती हवाओं के….
उलझाने वाली झोंकें होंगे….!
असंतुलित विचार…
कुछ प्रबल-प्रफुल्लित होंगे….;
मन भी कुछ विचलित होंगे…..!!
फिर भी तुझे संभलने हैं…
इरादे अपने नहीं बदलने हैं…..!
हो इस राह में…
कोई गिरि-गहवर….,
मन-विचार संतुलित कर….;
एक अकेला राह गढ़ने होंगे….!!
न आयेगा कोई इधर मदद करने…
बना स्वयं को अपने हमसफर…..,
बस कुछ रोशनी के इशारे चलने होंगे…!
खुद के सहारे यहां से निकलने होंगे…!! ”

***************∆∆∆****************

* बी पी पटेल *
बिलासपुर ( छ. ग. )
१७ / ०७ / २०२२

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
3229.*पूर्णिका*
3229.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
नज्म- नजर मिला
नज्म- नजर मिला
Awadhesh Singh
"गम"
Dr. Kishan tandon kranti
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
ससुराल में साली का
ससुराल में साली का
Rituraj shivem verma
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बयार
बयार
Sanjay ' शून्य'
* नदी की धार *
* नदी की धार *
surenderpal vaidya
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
गंगा- सेवा के दस दिन..पांचवां दिन- (गुरुवार)
गंगा- सेवा के दस दिन..पांचवां दिन- (गुरुवार)
Kaushal Kishor Bhatt
The Nature
The Nature
Bidyadhar Mantry
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
शेखर सिंह
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
कृषक
कृषक
Shaily
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#आदरांजलि
#आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...