Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से

चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
देखेंगे दिन ढलते और,घूमेंगे तराइन के गांव में
जहां नूर की झुंड होगी,शम्मा की शोर होगी
डूबे रहेंगे खयालों में,हम नाचेंगे आबसारों में
चलो मिलते हैं पहाड़ों में
* * *
होगी जन्नत जैसी दुनिया,वहां अलग ही रौनक होगी
थिरकेंगे पांव भी हमारे,भरी कहानियों से औराक होगी
नैना भी नए नजारे देखेंगे,जी भर गम की पत्थर फेकेंगे
ऐसा होगा ना नजारा सांसरों में,चलो मिलते हैं पहाड़ों में
* * *
रंगत तो छाई रहेगी महफिल में,हम कहीं पाए जाएंगे गाफिल में
टूटते तारों पे अपना बिस्वास जमाएंगे,जो हुई हो ना खाब पूरे फिर से आजमाएंगे
कोई जख्म नया कुरेदकर अश्को की दरिया बनायेंग,उसी दरिया में कूदकर जिंदगी का जश्न मनाएंगे
कभी ऐसा मौका मिलेंगे नहीं हजारों में,चलो मिलते हैं पहाड़ों में
..

1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
लोकतंत्र
लोकतंत्र
करन ''केसरा''
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
मन करता है
मन करता है
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अगर आप
अगर आप
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2434.पूर्णिका
2434.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
कवि रमेशराज
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
"मुस्कुराते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...