Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

चलो चलो तुम अयोध्या चलो

चलो चलो तुम अयोध्या चलो।
राम के दर्शन को अयोध्या चलो।।
जय श्री राम, जय श्री राम, जय श्री राम,जय श्री राम।
एक स्वर में यह गाते अयोध्या चलो।।
चलो चलो तुम ———————-।।

हम सबके प्राणों में बसे हैं श्री राम।
उद्धार करेंगे हम सभी का श्री राम।
श्री राम के बिना जीवन किस काम का।
हम सबका मालिक है प्रभु श्री राम।।
पाने को आशीर्वाद अयोध्या चलो।
राम के दर्शन को अयोध्या चलो।।
(जय श्री राम, जय श्री राम, जय श्री राम,जय श्री राम)
चलो चलो तुम ———————।।

सबके जीवन के आदर्श श्री राम है।
दया करुणा के प्रतीक श्री राम है।।
माता पिता के आदर्श पुत्र राम है।
आदर्श पति और भाई श्री राम है।।
राम के मंदिर को अयोध्या चलो।
राम के दर्शन को अयोध्या चलो।।
(जय श्री राम, जय श्री राम, जय श्री राम,जय श्री राम)
चलो चलो तुम——————-।।

प्रभु राम का अपमान हम नहीं सहेंगे।
प्रभु राम के लिए जान भी हम देंगे।।
भारत का गौरव और सम्मान राम है।
हम राम का सम्मान नहीं मिटने देंगे।।
लेकर ध्वज राम का अयोध्या चलो।
राम के दर्शन को अयोध्या चलो।।
(जय श्री राम, जय श्री राम,जय श्री राम, जय श्री राम)
चलो चलो तुम——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला-बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2637.पूर्णिका
2637.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
राहों में
राहों में
हिमांशु Kulshrestha
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
Neeraj Agarwal
बेमेल रिश्ता
बेमेल रिश्ता
Dr. Kishan tandon kranti
एक तरफ चाचा
एक तरफ चाचा
*प्रणय प्रभात*
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता
कविता
Neelam Sharma
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चील .....
चील .....
sushil sarna
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अस्तित्व पर अपने अधिकार
अस्तित्व पर अपने अधिकार
Dr fauzia Naseem shad
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मुझको तो घर जाना है
मुझको तो घर जाना है
Karuna Goswami
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
Anand Kumar
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
Loading...