Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

चले न कोई साथ जब,

चले न कोई साथ जब,
साथ निभाता नाथ ।
संचित कितना भी करो,
खाली रहते हाथ ।।

सुशील सरना / 22-2-24

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
बुद्ध को है नमन
बुद्ध को है नमन
Buddha Prakash
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
पर्वत
पर्वत
डॉ० रोहित कौशिक
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
All good
All good
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जीवन का आधार है बेटी,
*जीवन का आधार है बेटी,
Shashi kala vyas
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
25)”हिन्दी भाषा”
25)”हिन्दी भाषा”
Sapna Arora
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
पूर्वार्थ
पहला-पहला प्यार
पहला-पहला प्यार
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-42💐
💐अज्ञात के प्रति-42💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...