Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान

(शेर) – बहुत टूट रहे हैं रिश्तें, इश्क के इस शौक में।
हो रहे हैं बर्बाद घर,मोहब्बत के इस रोग में।।
घोर कलयुग है, नहीं अब शर्म और वफादारी।
हो रहे हैं खून बहुत अब, प्रेम के इस रोग में।।
—————————————————————
छोड़कर अपना पति,और अपनी सन्तान।
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान।।
अंजू तू बेहया है, अंजू तू बेवफा है।।(2)
छोड़कर अपना पति ——————–।।

तुमको हिंदुस्तान सा, नहीं कोई देश मिलेगा।
पाकिस्तान में प्यार- सम्मान, तुमको नहीं मिलेगा।।
भूल गई तू वफादारी, और हिंदुस्तान।
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान।।
अंजू तू बेहया है, अंजू तू बेवफा है।।(2)
छोड़कर अपना पति ————————।।

अपने पति-परिवार से, झुठ बोलकर तू गई।
बेशर्म- निर्दयी तू , अपने बच्चों को भूल गई।।
कर दिया बदनाम तुमने, देश- खानदान।
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान।।
अंजू तू बेहया है, अंजू तू बेवफा है।।(2)
छोड़कर अपना पति——————-।।

रिश्तों और नारी को, तुमने शर्मसार किया है।
पति – पत्नी के विश्वास को, दागदार किया है।।
कह रहा है तुमको पापी, यहाँ हर इन्सान।
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान।।
अंजू तू बेहया है, अंजू तू बेवफा है।।(2)
छोड़कर अपना पति————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
ड्रीम इलेवन
ड्रीम इलेवन
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"भावना" तो मैंने भी
*Author प्रणय प्रभात*
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
एहसास
एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मां
मां
Sûrëkhâ
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
gurudeenverma198
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
Leena Anand
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...