Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

” चलन “

वर्जनाएं ढहीँ, सब सितम, हो गए,
जैसे पत्थर के अब तो, सनम हो गए।

यदि न पहचान पाया वो, क्यों दोष दूँ ,
भूल जाने के, अब तो, चलन हो गए।

रात्रि जाती रही, दिल दुखाती रही,
कितने अरमान, उर मेँ दहन हो गए।

बादलों मेँ ही, छुपने का वादा था पर,
चाँद के भी, तो झूठे, वचन हो गए।

काश, मुझको भी इक मित्र, ऐसा दिखे,
जिससे मिलकर लगे, हम सहज हो गए।

किसको अपना कहूँ, समझ पाता नहीं,
रिश्ते नातोँ के, भी तो, पतन हो गए।

धुन्ध सारी छँटी, धूप फिर खिल उठी,
दूर अब, मेरे सारे, भरम हो गए।

खेल “आशा”, निराशा का चलता रहा,
अश्रु कुछ बह गए, कुछ रहन हो गए..!

रहन # गिरवी रखना, to mortgage

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
जमीर पर पत्थर रख हर जगह हाथ जोड़े जा रहे है ।
जमीर पर पत्थर रख हर जगह हाथ जोड़े जा रहे है ।
Ashwini sharma
மறுபிறவியின் உண்மை
மறுபிறவியின் உண்மை
Shyam Sundar Subramanian
मजे की बात है
मजे की बात है
Rohit yadav
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
चुप
चुप
Ajay Mishra
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
“बदलते भारत की तस्वीर”
“बदलते भारत की तस्वीर”
पंकज कुमार कर्ण
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
विक्रम कुमार
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चिन्ता का चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
"सादगी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
माँ भारती की पुकार
माँ भारती की पुकार
लक्ष्मी सिंह
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
सज़ा तुमको तो मिलेगी
सज़ा तुमको तो मिलेगी
gurudeenverma198
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
..
..
*प्रणय प्रभात*
गूँगी गुड़िया ...
गूँगी गुड़िया ...
sushil sarna
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
Loading...