Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।

चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
टूटना, थकना, रुकना, हारना मृत्यु से पहले कायरों का काम है।।
हौसलों से जीतते है, वीर मरने के भी बाद।
मरना है तो लड़ मरो, नवयुग करेगा जिंदाबाद।।

जय हिंद

1 Like · 219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
Manisha Manjari
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
Ravi Prakash
लिया समय ने करवट
लिया समय ने करवट
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2980.*पूर्णिका*
2980.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
Vishal babu (vishu)
🙅आम चुनाव🙅
🙅आम चुनाव🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
Buddha Prakash
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
फ्राॅड की कमाई
फ्राॅड की कमाई
Punam Pande
Loading...