Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2024 · 1 min read

चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।

चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।
धन से जब तुलने लगे, संतन और अमीर।।
सूर्यकांत

23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
★भारतीय किसान★
★भारतीय किसान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
King of the 90s - Television
King of the 90s - Television
Bindesh kumar jha
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*प्रणय प्रभात*
कवि मोशाय।
कवि मोशाय।
Neelam Sharma
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
उधार ....
उधार ....
sushil sarna
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
Loading...