Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

चरैवेति चरैवेति का संदेश

तदवीर से ही फिर गढ़ी जा
सकती किस्मत की लकीरें
किताबों में कर्म के महत्व पे
दर्ज हैं महापुरुषों की तकरीरें
कर्मवीर सदा पलटते रहे हैं
समूची दुनिया का इतिहास
उनके कर्म में परिलक्षित हुआ
एकनिष्ठ निरंतरता का अभ्यास
कुरुक्षेत्र में अर्जुन को निष्काम
कर्म का कृष्ण दे गए उपदेश
साथ ही बता गए कर्म गति
से मिलने वाले फल विशेष
चरैवेति चरैवेति का संदेश
युगों से देते रहे हमें पुराण
फिर भी हम अन्यत्र खोजते
रहे किस्मत के द्वार तमाम
लक्ष्य तय करके जो कोई भी
करता निरंतर ठीक से कर्म
सफलता उसका वरण कर
निभाती अपना सच्चा धर्म

Language: Hindi
170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
धीरे धीरे  निकल  रहे  हो तुम दिल से.....
धीरे धीरे निकल रहे हो तुम दिल से.....
Rakesh Singh
हम
हम
Shriyansh Gupta
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
पत्नी रुष्ट है
पत्नी रुष्ट है
Satish Srijan
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-416💐
💐प्रेम कौतुक-416💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
Shyam Sundar Subramanian
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...