Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2016 · 1 min read

घाव

नाम लिखते है मिटाते है,
अपने ही नाम से अपना दिल बहलाते है,
उसका नाम समाया है मेरे नाम में,
इसी बहाने खुद को उसकी याद दिलाते है।
*** ***
जो घाव लगता है ‘दवे’ दिल पर, पूरा लगता है,
अब तो ख़ुद का नाम भी अधूरा लगता है

*** ***
हमें देख कर वो नज़र झुका कर गुजर जाती है,
ख़ुदा जाने मुझसे नफरत है या मुझसे शर्माती है।

Language: Hindi
Tag: शेर
385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विनोद कुमार दवे
View all
You may also like:
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
फूल खुशबू देते है _
फूल खुशबू देते है _
Rajesh vyas
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
2877.*पूर्णिका*
2877.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खूबसूरती
खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
बाल कहानी- रोहित
बाल कहानी- रोहित
SHAMA PARVEEN
नसीब
नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐Prodigy Love-12💐
💐Prodigy Love-12💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
■ संपर्क-सूत्रम
■ संपर्क-सूत्रम
*Author प्रणय प्रभात*
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
सोच का अपना दायरा देखो
सोच का अपना दायरा देखो
Dr fauzia Naseem shad
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
बापक भाषा
बापक भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
*आवारा कुत्तों से बचना, समझो टेढ़ी खीर (गीत)*
Ravi Prakash
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...