Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2023 · 1 min read

*घर आँगन सूना – सूना सा*

घर आँगन सूना – सूना सा
**********************

घर आँगन सूना – सूना सा,
तुम बिन जीना है ठूँठा सा।

बिखरी उजड़ी बसती बस्ती,
उखड़ा जीवन का खूंटा सा।

फल-फूलों का सारा झड़ना,
खिलती बगिया मे चूना सा।

कैसा पतझड मौसम आया,
मुरझाया मन का कोना सा।

होगा उनका आना – जाना,
भाता ना हर पल रोना सा।

मनसीरत कब होगी बरखा,
हर कोई रोता मृगछौना सा।
*********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
Thought
Thought
Jyoti Khari
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
आशिकी
आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छल
छल
गौरव बाबा
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
पिता
Kanchan Khanna
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"खुदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
ज़िंदा हो ,ज़िंदगी का कुछ तो सबूत दो।
Khem Kiran Saini
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
आकांक्षा राय
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जटायु (कुंडलिया)*
*जटायु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
Ram Krishan Rastogi
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
Loading...