Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

ग्वालियर की बात

ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात, भाषा का अपना माहोल निराला है,
जैसे मधुर संगीत का, हर सुर में ताल मिला है।।
ब्रज की मधुरता, बुंदेली की सरलता,
दोनों का संगम, ग्वालियरी भाषा में मिलता है।।
शब्दों का चयन, लहजे का उतार-चढ़ाव,
हर बात में, ग्वालियर का अपना रंग दिखता है।।
कविता हो या गीत, कहानी हो या नाटक,
ग्वालियरी भाषा में, हर कला में दम दिखता है।।
महान रचनाकारों ने, इस भाषा को गढ़ा है,
अपनी प्रतिभा से, इसे समृद्ध बनाया है।।
आज भी, ग्वालियर की गलियों में,
इस भाषा का मधुर संगीत सुनाई देता है।।
ग्वालियर की बात, भाषा का अपना माहोल निराला है,
जैसे मधुर संगीत का, हर सुर में ताल मिला है।।
उदाहरण:
“बैठे हैं आजकल, ग्वालियर के किले की तलहटी में,
सोच रहे हैं, उन दिनों की बातें, जो बीते थे बचपन में।”
“ग्वालियर की गलियों में, घूमते हुए,
देखते हैं, लोगों को, जो व्यस्त हैं अपने काम में।”
“ग्वालियर के मंदिरों में, जाते हैं, प्रार्थना करते हैं,
भगवान से, सुख और समृद्धि के लिए।”

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"हर बाप ऐसा ही होता है" -कविता रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
अध्यात्म
अध्यात्म
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
2969.*पूर्णिका*
2969.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
🙅ऑफर🙅
🙅ऑफर🙅
*प्रणय प्रभात*
मजबूरियां रात को देर तक जगाती है ,
मजबूरियां रात को देर तक जगाती है ,
Ranjeet kumar patre
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
📚पुस्तक📚
📚पुस्तक📚
Dr. Vaishali Verma
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
रात
रात
sushil sarna
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
Loading...