Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2019 · 2 min read

गौरैया

नटखट बचपन में तरंगे पैदा करने के लिए गौरैया का नाम जरूर आता है। बच्चा गौरैया या ऐसी ही चिडि़ंयों को देखकर मचलता जरूर है। बात कोई बहुत ज्यादा पुरानी नहीं है। कोई एक-डेढ़ दशक पहले ज्यादातर घरों में गौरैया का घोंसला जरूर होता था। घोंसला न भी हो तो यह इंसानी दोस्त घर की मुंडेर पर आकर आकर बैठ जाती थी, फिर इधर-उधर फुदक कर उड़ जाती थी। खेत-खलियान, बस-रेलवे स्टेशनों पर इनके झुंड नजर आते थे। पुराने जमाने में गौरैया को खुशी, फुर्ती, आजादी, रिवायत, संस्कृति का प्रतीक माना जाता था। अब इस पर ऐसा संकट आया है कि यह विलुप्त हो चुकी है और बमुश्किल नजर आती है। कुछ पक्षी प्रेमी आज भी इसको संरक्षण देने और बचाने में लगे हैं।

खत्म होने के कारण: गौरैया को सबसे ज्यादा रेडिएशन ने नुकसान पहुंचाया है। चूंकि मोबाइल जिंदगी की हम जरूरत बन चुका है, इसलिए मजबूत सिगनल के लिए हाई फिरिक्वेंसी टॉवर लगाए जा रहे हैं। पर्यावरण विद बताते हैं कि टॉवर से निकलने वाले रेडिएशन में ऐसी क्षमता होती है जिससे गौरैया के अंडे नष्ट हो जाते हैं। वाहनों की बढ़ती तादाद भी इनको नष्ट करने में कम जिम्मेदार नहीं है। वाहनों में जलने वाले ईंधन से निकलने वाला मेथिल नाइट्रेट छोटे कीटों के लिए खतरनाक है। यही कीट इनके चूजों का खाना होते हैं। बढ़ती आबादी की मांग को देखते हुए खेत कंकरीट के जंगलों में बदल रहे हैं। कच्चे मकान तो रहे नहीं, पक्के मकानों को भी इस तरह बनाया जा रहा है कि उनमें छज्जे, ताख या और कोई गुंजाइश ही नहीं बची है। इन्हीं जगहों पर गौरैया अपना आशियाना बनाती थी।

रेड लिस्ट में शामिल: घर क्या, बागात क्या हर जगह गौरैया की तादाद घट रही है। हालांकि सरकार इसके वापस आने की तमाम कोशिशें कर रही है। गौरैया को संकटग्रस्त प्रजाति के पक्षियों की रेड लिस्ट में शामिल किया गया है। इसका मकसद यही है कि जनमानस का ध्यान इसको बचाने की तरफ खींचा जाए।

दिल्ली में राजकीय पक्षी: गौरैया पर अरसे से खतरा मंडरा रहा है। इसको ध्यान में रखकर सरकारों ने इसके संरक्षण की कोशिशें शुरू कर दी हैं। दिल्ली सरकार ने तो गौरैया का आस्तित्व बचाने के लिए इसको राजकी पक्षी घोषित कर दिया है। अन्य सरकारें भी ध्यान दे रही हैं।

महादेवी वर्मा की पसंद: उत्तर भारत में गौरैया का खास महत्व है। यह यहां की संस्कृति में अच्छी तरह रची-बसी है। हिन्दी की मशहूर लेखिका व कवियित्री महादेवी वर्मा ने अपनी कहानी गौरैया में इसका महत्व बताया है। उन्होंने शहरी जीवन को समृद्ध करने के लिए गौरैया के लौट आने की कामना की है।

© अरशद रसूल

Language: Hindi
Tag: लेख
4 Likes · 2 Comments · 607 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हुईं मानवीय संवेदनाएं विनष्ट
हुईं मानवीय संवेदनाएं विनष्ट
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
Neelam Sharma
जून का महीना जो बीतने वाला है,
जून का महीना जो बीतने वाला है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
चाहतों की सेज न थी, किंतु ख्वाबों  का गगन था.....
चाहतों की सेज न थी, किंतु ख्वाबों का गगन था.....
दीपक झा रुद्रा
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विश्वास
विश्वास
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
🙅मैं नहीं कहता...🙅
🙅मैं नहीं कहता...🙅
*प्रणय प्रभात*
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
*किले में योगाभ्यास*
*किले में योगाभ्यास*
Ravi Prakash
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
We Mature With
We Mature With
पूर्वार्थ
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
"पत्नी और माशूका"
Dr. Kishan tandon kranti
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
Loading...