Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2018 · 1 min read

गोरी की होली

हिय मे उमंग भरि,प्रीति की तरँग सँग,
बिन कोऊ रँग,काहे गालन पे लाली है !
काहे सकुचाति, अरु काहे को लजाति,सखि,
पूरे एक बरस के बाद होली आई है !
बरसत हैं रँग,सँग भीजत जो अँग,
भले होत हुड़दंग, गोरी पिय की दुलारी है !
लाल हरे पियरे औ नीले भले होँ रँग,
होली को रँग सब रँगन पै भारी है ! !

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 1 Comment · 602 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
मुझ पे एहसान वो भी कर रहे हैं
मुझ पे एहसान वो भी कर रहे हैं
Shweta Soni
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
3566.💐 *पूर्णिका* 💐
3566.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
surenderpal vaidya
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
जीवन का मूल्य
जीवन का मूल्य
Shashi Mahajan
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
सीख
सीख
Adha Deshwal
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
शेखर सिंह
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
यादो की चिलमन
यादो की चिलमन
Sandeep Pande
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
चार दिन की जिंदगी
चार दिन की जिंदगी
Karuna Goswami
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
Anil Mishra Prahari
Attraction
Attraction
Vedha Singh
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
राजनीति
राजनीति
Awadhesh Kumar Singh
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
सांझ सुहानी मोती गार्डन की
सांझ सुहानी मोती गार्डन की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*प्रणय प्रभात*
Loading...