Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2018 · 1 min read

गुलाब

मैं हूँ सब फूलों का नवाब
सबका प्यारा मैं हूँ गुलाब

काँटों में हँसता रहता हूँ
नहीं शिकायत मैं करता हूँ
रँग मेरे सब प्यारे प्यारे
कितना सुंदर मैं दिखता हूँ
मेरी खुशबू भी लाजवाब
सबका प्यारा मैं हूँ गुलाब

प्रभु चरणों में मैं पड़ता हूँ
शव पर भी तो मैं चढ़ता हूँ
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाई
सबके लिए यहां खिलता हूँ
कोई धर्म न मेरा जनाब
सबका प्यारा मैं हूँ गुलाब

04-07-2018
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
662 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ जीवन मूल्य।
■ जीवन मूल्य।
*प्रणय प्रभात*
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
झुलस
झुलस
Dr.Pratibha Prakash
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपना माना था दिल ने जिसे
अपना माना था दिल ने जिसे
Mamta Rani
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब सौंप दिया इस जीवन का
अब सौंप दिया इस जीवन का
Dhirendra Singh
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ले लो आप सब ज़िंदगी के खूब मजे,
ले लो आप सब ज़िंदगी के खूब मजे,
Ajit Kumar "Karn"
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
Ravi Prakash
"नसीबे-आलम"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
आगे निकल जाना
आगे निकल जाना
surenderpal vaidya
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
"मैं सब कुछ सुनकर मैं चुपचाप लौट आता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
लेखक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
लेखक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...