Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

गुरूता बने महान ……!

गुरुता बने महान
**************

क्यूँ धूमिल हुई पहचान , आओ हम मनन करें ।
फ़िर गुरूता बने महान, आओ हम हवन करें ।

हम चाणक्य के वंशज हैं, हम में है बुद्धि-विवेक,
कोरे मन मस्तिष्क पे हमको लिखने आखर नेक,
कांटों का ले संज्ञान, हम पुष्पित चमन करें।
फिर गुरूता बने महान….!

मन फूलों सा है अपना, पर फौलादी छाती है,
अंधियारों का मुँह सी दे जो उस लौ की बाती है,
भूतल पर तम अज्ञान, आओ हम दमन करें ।
फिर गुरूता बने महान…..!

हम शिक्षक हैं पास हमारे कलम की ताकत है,
हर जोर जुल्म की टक्कर में, इल्म और इबादत है,
कलम को करें कृपाण, हम रक्षित वतन करें ।
फिर गुरूता बने महान….!

आओ हम मनन करें ।
आओ हम हवन करें ॥

✍️ हरवंश ‘हृदय’
बांदा
9451091578

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
ख़ुद से हमको
ख़ुद से हमको
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी के हित
हिन्दी के हित
surenderpal vaidya
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
Loading...