Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

गुरु दक्षिणा

गुरु दक्षिणा

अर्जुन सहित लगभग सभी लोग यही मानकर चल रहे थे कि विश्वविद्यालय शिक्षण विभाग व्याख्याता के रिक्त एकमात्र पद पर गोल्ड मैडलिस्ट अर्जुन की ही नियुक्ति होगी।

आरक्षित वर्ग का होने के कारण तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण एकलव्य भी अपनी नियुक्ति के प्रति आश्वस्त था।

चयन सूची में द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए दुःशासन का नाम देखकर सभी चकित रह गये।

बाद में पता चला कि दु:शासन ने कुलपति द्रोण को मुँहमाँगी गुरु दक्षिणा दी थी, जिससे साक्षात्कार में उसे सर्वाधिक अंक मिले और उसका चयन हो गया।

– डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती पूजा में प्रायश्चित यज्ञ उर्फ़ करेला नीम चढ़ा / MUSAFIR BAITHA
सरस्वती पूजा में प्रायश्चित यज्ञ उर्फ़ करेला नीम चढ़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
अब
अब "अज्ञान" को
*Author प्रणय प्रभात*
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
2771. *पूर्णिका*
2771. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
Ravi Prakash
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
" जुदाई "
Aarti sirsat
"डीजे"
Dr. Kishan tandon kranti
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
चॉकलेट
चॉकलेट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
dks.lhp
Loading...