Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 1 min read

गुरुवर

गुरुवर के निर्मल चरण, करते ह्रदय प्रकाश ।
श्रुतियों की वाणी सुना, करते विमल विकास।
करते विमल विकास, नयन कमलों को खोलें।
गुरुवर भानु समान,शारदा माता बोलें।
कहें प्रेम कविराय, दानी जन हैं तरूवर।
मथकर मन में रमें,ध्यान धारकर गुरुवर।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
पूर्वार्थ
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
gurudeenverma198
........,
........,
शेखर सिंह
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*प्रणय प्रभात*
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*प्रेम कविताएं*
*प्रेम कविताएं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"वो बचपन के गाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
गर तुम मिलने आओ तो तारो की छाँव ले आऊ।
गर तुम मिलने आओ तो तारो की छाँव ले आऊ।
Ashwini sharma
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...