Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

गुरुर ज्यादा करोगे

गुरुर ज्यादा करोगे
तो खो जाओगे
हसरत हमारी रखोगे
तो रो जाओगे

1 Like · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बोलो राम राम
बोलो राम राम
नेताम आर सी
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
पूर्वार्थ
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ैरत ही होती तो
ग़ैरत ही होती तो
*Author प्रणय प्रभात*
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
2718.*पूर्णिका*
2718.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...