Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

गुम्मा है साहब !

“गुम्मा है साहब ! ”
*****************************************************************************
– इन्हें पहचानती हो ? -वकील ने जज साहब के सामने उससे पूछा।
– नहीं साहब !
– झूठ बोलती है साहब ये ! मेरे मुवक्किल का सिर फोड़ने की बाद अब ये उसे पहचानने से भी इनकार कर रही है।
– इसे तो जानती होगी ? -वकील ने फिर उस ईंट के टुकड़े को दिखाते हुए पूछा।
– “गुम्मा” है साहब ! इसे हम गरीब लोग जानते भी हैं और पहचानते भी । यही तो है हमारा एकमात्र सहारा ! जो “इन” जैसे कुत्तों का सिर फोड़ने के काम आता है, जब ये झपटते हैं हमारी इज्जत पे !
मामला शीशे की तरह साफ़ हो चुका था।
*****************************************************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************************************************

Language: Hindi
2 Comments · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पिता है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
Surinder blackpen
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
shabina. Naaz
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
Buddha Prakash
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं आँखों से जो कह दूं,
मैं आँखों से जो कह दूं,
Swara Kumari arya
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ Rãthí
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
Ashwini sharma
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
Loading...