Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं

गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं

मगर पुण्यों के भगवान तो आप स्वयं ही हुआ करते हैं,,

धीरूभाई बेरंग dB BHEL

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैंने खुद की सोच में
मैंने खुद की सोच में
Vaishaligoel
योग करें निरोग रहें
योग करें निरोग रहें
Shashi kala vyas
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
"वो दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
लक्ष्य है जो बनाया तूने, उसकी ओर बढ़े चल।
लक्ष्य है जो बनाया तूने, उसकी ओर बढ़े चल।
पूर्वार्थ
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
खडा खोड झाली म्हणून एक पान फाडल की नवकोर एक पान नाहक निखळून
खडा खोड झाली म्हणून एक पान फाडल की नवकोर एक पान नाहक निखळून
Sampada
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
*प्रणय प्रभात*
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...