Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

गुज़रा हुआ वक्त

गुजरा हुआ वक्त,कब आता है दोबारा।
हो सके तो कद्र कर ले इसकी तू यारा।

ऐसे ऐसे सबक ये , जीवन में दे जाये
जो न समझे इसको ,वो अंत पछताये।

गुज़रे वक्त ‌की इंसां अगर समझे कीमत
अपने हर मसले‌ को , जल्दी करे सीमित।

गुजरा वक्त सिखला दे समय की करो कद्र
कुछ फैसला लेने से पहले पीछे फेरो नज़र।

अच्छे काम करके कुछ , पुण्य तुम कमा लो
अपनी सूझबूझ से ,धरती पर स्वर्ग बना लो।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
"मेरी आवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
Loading...