Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

गीत

‘भक्ति गीत

गीत
बनकर माँझी पार उतारो
बिगड़ी बना दो हे गोपाल!

अँधियारा मन विचलित करता
माया जग को ठगने आई
भव सागर में डूबे नैया
कैसी मैंने किस्मत पाई।
ठोकर खाकर दर-दर भटकूँ-
राह दिखाओ नंद के लाल।
बिगड़ी बनादो हे गोपाल!

तुम बिन गोपी ग्वाल अधूरे
प्यासी यमुना गीत न भाएँ
कोई ऐसा रास रचा दो
त्रस्त धरा पर जन सुख पाएँ।
क्या तेरा क्या मेरा जग में-
मानव जीवन हुआ बेहाल।
बिगड़ी बनादो हे गोपाल!

निष्ठुर मन अब तड़प रहा है
रिश्ते-नाते लगते झूठे
इक जीवन मेरा भी तारो
जनम-मरण का बंधन छूटे।
भूल गई हूँ हँसी-ठिठोली-
काटो प्रभू ये माया जाल।
बिगड़ी बनादो हे गोपाल!

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी।(उ. प्र.)
संपादिका- साहित्य धरोहर

Language: Hindi
Tag: लेख
227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
तेरी दुनिया में
तेरी दुनिया में
Dr fauzia Naseem shad
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
गर्मी से है बेचैन,जरा चैन लाइये।
गर्मी से है बेचैन,जरा चैन लाइये।
Sachin Mishra
"बल और बुद्धि"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं भागीरथ हो जाऊ ,
मैं भागीरथ हो जाऊ ,
Kailash singh
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
रुचि शर्मा
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
3607.💐 *पूर्णिका* 💐
3607.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
Mangilal 713
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
One of the biggest red flags in a relationship is when you h
One of the biggest red flags in a relationship is when you h
पूर्वार्थ
माँ का प्यार
माँ का प्यार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दो पल का मेला
दो पल का मेला
Harminder Kaur
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...