Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

गीत

“मुझे बचालो मेरी माँ!”

प्रभु कृपा से गर्भ में आई
मुझे बचा लो मेरी माँ,
बोझ नहीं हूँ इस दुनिया पर
गले लगा लो मेरी माँ!

मैं आँचल की गौरव गाथा
चींखती लाचार होकर
तड़प-तड़प ममता पूछेगी
क्या मिला उपहार खोकर।

बेटी होना पाप नहीं है-
आत्म जगा लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो…..

मैं भी तो हूँ अंश तुम्हारा
मुझको माँ स्वीकार करो
सीता, लक्ष्मी बन कर आई
बेटी पर उपकार करो।

बिलख-बिलख अनुरोध करूँ मैं-
पास बुला लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो….

मातु-पिता की दुआ बनी मैं
कुल की शान बढ़ाऊँगी
अंतरिक्ष में भर उड़ान मैं
जग पहचान बनाऊँगी।

बेटा-बेटी कुल के दीपक-
मान बढ़ाओ मेरी माँ।
मुझे बचा लो….

मैं तेरे सपनों की गुड़िया
आँगन-द्वार सजाऊँगी
सुख-दु:ख का मैं सेतु बनकर
जीवन पार लगाऊँगी।

बेटी तो आधार जगत का-
शपथ उठा लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो मेरी माँ!

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी।(उ.प्र.)
संपादिका- साहित्य धरोहर

Language: Hindi
Tag: गीत
432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
पथप्रदर्शक
पथप्रदर्शक
Sanjay ' शून्य'
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
Shweta Soni
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
शोषण
शोषण
साहिल
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक "रामपुर के रत्न" का लोकार्पण*
Ravi Prakash
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
रज के हमको रुलाया
रज के हमको रुलाया
Neelam Sharma
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
यह आशामय दीप
यह आशामय दीप
Saraswati Bajpai
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
Kshma Urmila
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*प्रणय प्रभात*
" पाती जो है प्रीत की "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...