Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

गीत

“मुझे बचालो मेरी माँ!”

प्रभु कृपा से गर्भ में आई
मुझे बचा लो मेरी माँ,
बोझ नहीं हूँ इस दुनिया पर
गले लगा लो मेरी माँ!

मैं आँचल की गौरव गाथा
चींखती लाचार होकर
तड़प-तड़प ममता पूछेगी
क्या मिला उपहार खोकर।

बेटी होना पाप नहीं है-
आत्म जगा लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो…..

मैं भी तो हूँ अंश तुम्हारा
मुझको माँ स्वीकार करो
सीता, लक्ष्मी बन कर आई
बेटी पर उपकार करो।

बिलख-बिलख अनुरोध करूँ मैं-
पास बुला लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो….

मातु-पिता की दुआ बनी मैं
कुल की शान बढ़ाऊँगी
अंतरिक्ष में भर उड़ान मैं
जग पहचान बनाऊँगी।

बेटा-बेटी कुल के दीपक-
मान बढ़ाओ मेरी माँ।
मुझे बचा लो….

मैं तेरे सपनों की गुड़िया
आँगन-द्वार सजाऊँगी
सुख-दु:ख का मैं सेतु बनकर
जीवन पार लगाऊँगी।

बेटी तो आधार जगत का-
शपथ उठा लो मेरी माँ।
मुझे बचा लो मेरी माँ!

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी।(उ.प्र.)
संपादिका- साहित्य धरोहर

Language: Hindi
Tag: गीत
218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
DrLakshman Jha Parimal
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
कल को छोड़कर
कल को छोड़कर
Meera Thakur
"वाह नारी तेरी जात"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
जब अकेला निकल गया मैं दुनियादारी देखने,
जब अकेला निकल गया मैं दुनियादारी देखने,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
झूठ का अंत
झूठ का अंत
Shyam Sundar Subramanian
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
Monika Arora
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
Gratitude Fills My Heart Each Day!
Gratitude Fills My Heart Each Day!
R. H. SRIDEVI
फूल ही फूल संग
फूल ही फूल संग
Neeraj Agarwal
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हम तुम और इश्क़
हम तुम और इश्क़
Surinder blackpen
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
*घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)*
*घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
3470🌷 *पूर्णिका* 🌷
3470🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कलम के हम सिपाही हैं, कलम बिकने नहीं देंगे,
कलम के हम सिपाही हैं, कलम बिकने नहीं देंगे,
दीपक श्रीवास्तव
Loading...