Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 12, 2016 · 1 min read

गीत

मन की बोली

मन की बोली जो कोई जाने,
वो ही अपना कहलाता है।
मन वो पंछी जो निश- दिन, हमको,
ख़्वाब सुनहरे दिखलाता है।
यूँ तो चाहे आज़ादी ये पर,
रिश्ते- बंधन प्रिय पाता है।
भीड़ परायों की कम ही भाये,
केवल कुछ अपने प्रिय- जन है।
जीवन में जो कुछ भी पाये,
नाम उन्हीं के कर जाता है।
सुख में दुख में हो या बेसुध में,
केवल उनका कहलाता है।
खोकर चैन, अमन, धन या जीवन,
वापस घर आना चाहता है।

124 Views
You may also like:
#15_जून
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेटी का संदेश
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H. Amin
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
Loading...