Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2019 · 1 min read

गीत

प्रेम जब ह्दय होता है ,
तो दिल गाफिल होता है।
न दिखता कोई अपना ,
इश्क जब नाजिल होता है।
लहरें होश खोती है ,
समंदर ज़ोश भरता है ।
किनारे शर्त करते है ,
शाहिल बीच होता है ।
खींच दो फलक में पर्दे ,
सूरज कहा रूकता है ।
बादल बिखर जाते है ,
चाँद भी कम निकता है ।
मिले एक बूंद स्वाति की,
पीह का जीवन होता है ।

— ———— ——- ———
स्वरचित :- शेख जाफर खान

Language: Hindi
Tag: गीत
8 Likes · 6 Comments · 280 Views
You may also like:
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
Fear From Freedom
AJAY AMITABH SUMAN
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️ये सफर मेरा...✍️
'अशांत' शेखर
अवाम
Shekhar Chandra Mitra
दिल चाहता है...
Seema 'Tu hai na'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
आज किस्सा हुआ तमाम है।
Taj Mohammad
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
*सड़‌क को नासमझ फिर भी छुरी-ईंटों से भरते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
ऐ मेरे व्यग्र मन....
Aditya Prakash
शब्दों के अर्थ
सूर्यकांत द्विवेदी
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
Buddha Prakash
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह यादें
Anamika Singh
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कविता - नई परिभाषा
Mahendra Narayan
✳️🌀मेरा इश्क़ ग़मगीन नहीं है🌀✳️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होता है
Dr fauzia Naseem shad
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार कर्ण
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
पिता
Abhishek Pandey Abhi
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...