Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

गीत-4 (स्वामी विवेकानंद जी)

जिनकी प्रतिभा और विद्वता,पड़ी सभी पर भारी।
उन्हें विवेकानंद नाम से, दुनिया सदा पुकारी।।

रूप तेज लावण्य देख था,जग जिनका दीवाना,
पूर्ण किया अध्यात्म ज्ञान को,दे वेदांत खजाना।
देशभक्ति की युवकों में थी,छिटकाई चिंगारी।
उन्हें विवेकानंद नाम से, दुनिया सदा पुकारी।।

जिससे मिले नरेंद्र उसी ने,उनको खूब सराहा,
जग में सिरमौर बने ये भारत,आजीवन यह चाहा।
केवल संत नहीं थे स्वामी , वे थे राष्ट्र पुजारी,
उन्हें विवेकानंद नाम से, दुनिया सदा पुकारी।।

जागो उठो लक्ष्य निज साधो, लोगों को सिखलाया।
आप्त वचन देकर दुनिया को,सत्पथ था दिखलाया।
युगानुकूल निज सोच बनाई, नव परिवर्तन कारी।
उन्हें विवेकानंद नाम से, दुनिया सदा पुकारी।।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिक्षा एवं धर्म
शिक्षा एवं धर्म
Abhineet Mittal
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
■ निष्कर्ष.....
■ निष्कर्ष.....
*Author प्रणय प्रभात*
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
Ravi Prakash
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐प्रेम कौतुक-416💐
💐प्रेम कौतुक-416💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
*A date with my crush*
*A date with my crush*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
Loading...