Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

गीत संग्रह से : तलाश एक दास्तां

मैंनें ढूंढा तुम्हें, सारी उम्र भर,इस पार से उस पार तक,इक अथक तलाश जारी है,घर के आंगन से स्वर्ग के द्वार तक,सारी जिन्दगी आशाओं की मीनार बन के रह गयी,मैंनें बुलंदियों को छुआ मगर तुम्हें देखने को संसार तक,नदिया थी तुम मैं किनारा था,तन- मन से सब तुम्हारा था,मेरा साथ छोडा तुमने जो, तो छूटा मेरा परिवार तक,जो भी कसमें वादे किये थे तब,मैं अब भी उनको निभा रहा,मेरी जिन्दगी कुर्बान है मेरी सांसों के अंतिम बार तक,ये सदायें अपने प्यार की, सुन रहा है सारा जहां मगर,इक नज्म तुम भी सुन सको, मेरे दर्द- ए-दिल की पुकार तक,जो लिखा पढा भी है मैंनें वो,संगीत सुर भी तुम्हारे हैं,मैं कैसे तुमसे कह सकूं,तो ये खबर गई अखबार तक ||

Language: Hindi
Tag: गीत
187 Views
You may also like:
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
✍️जगात कोटि कोटिचा मान असते✍️
'अशांत' शेखर
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
इससे अच्छा तो अजनबी हम थे
Dr fauzia Naseem shad
🌈🌸तुम ख़्वाब बन गए हो🌸🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
पिता
Meenakshi Nagar
*अनन्य हिंदी सेवी स्वर्गीय राजेंद्र मोहन शर्मा श्रंग*
Ravi Prakash
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है...
पीयूष धामी
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मिलन
Anamika Singh
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कैसे प्रणय गीत लिख जाऊँ
कुमार अविनाश केसर
यह सच आज मुझको मालूम हो पाया
gurudeenverma198
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
आतुरता
अंजनीत निज्जर
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
कुछ नए ख़्वाब।
Taj Mohammad
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
मुहब्बत और इबादत
shabina. Naaz
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...