Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

गीत।। रूमाल

आँख से बीन कर रक्तिमी डोरियाँ,
एक बूटा बनाया है रूमाल पर।
इसलिए कि कोई और पढ़ न सके,
कुछ अधूरा बनाया है रूमाल पर।

चंद सिक्के बचाए बचूए हुए, दादियों की चतुर अंजुरी में रखे।
चैत, कातिक के मेले में जाते हुए, बाँधकर गाँठ जो कंचुकी में रखे।

उनकी छाती से रिसते हुए स्वेद ने,
कुछ उन्हीं सा बनाया है रूमाल पर।

उम्र की थान से एक टुकड़ा चुरा, भावनाओं के दो फूल काढ़े गए।
जैसे कैशौर्य जाता है बिन कुछ कहे, वैसे रुमाल के रंग गाढ़े गए।

आँसुओं में घुला जो गिरा गाल पर,
वो ज़माना बनाया है रूमाल पर।

नाक अपनी बचाने को स्कूल में, हमको रूमाल जो सर्दियों में मिला।
वो जो बस्ते में इक पोटली की तरह, चार कंचे भरे इमलियों में मिला।

श्वेत से फिर हरा, क्यों हुआ माटिया,
हर बहाना बनाया है रूमाल पर।
– शिवा अवस्थी

3 Likes · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की याद आती है ?
माँ की याद आती है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
*प्रणय प्रभात*
" मानस मायूस "
Dr Meenu Poonia
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बँटवारा"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
#एकताको_अंकगणित
#एकताको_अंकगणित
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
VINOD CHAUHAN
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Swami Ganganiya
रंग जाओ
रंग जाओ
Raju Gajbhiye
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🌺आलस्य🌺
🌺आलस्य🌺
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
Sanjay ' शून्य'
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
Loading...