Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

गीतिका-

गीतिका-
उर अंजुलि में भाव लिए मैं,आया तेरे द्वार।
चरणों में अर्पित हैं माता,करो इन्हें स्वीकार।1
अनगढ़ भावों की कविता कब,पाती जग में मान,
करो परिष्कृत भावों को माँ,खिले काव्य संसार।2
दूर करो माँ बुद्धिप्रदायिनि, लेखन के सब दोष,
मुकुलित शब्दों से कल्याणी,करूँ काव्य सिंगार।3
मानस पटल करो आलोकित,देकर पावन ज्ञान,
झंकृत कर दो मन वीणा के ,मातु शारदा तार।4
कैसे रचूं छंद मैं माता, पिंगल से अनजान,
छंद रीति गुण दोष सिखाओ,देकर अपना प्यार।5
विनती करता सम्मुख तेरे, मैं मतिमंद विमूढ़,
ले लो शरण मुझे माँ वाणी,कर दो दूर विकार।6
जन मन की पीड़ा का लेखन,कर दो संभव मातु,
ओजपूर्ण मसि भरो कलम में,होगा माँ उपकार।7
डाॅ बिपिन पाण्डेय

2 Likes · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
मां आई
मां आई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
Ram Krishan Rastogi
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
उस मुहल्ले में फिर इक रोज़ बारिश आई,
उस मुहल्ले में फिर इक रोज़ बारिश आई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
तुम्हारे पास ज्यादा समय नही हैं, मौत तुम्हारे साये के रूप मे
तुम्हारे पास ज्यादा समय नही हैं, मौत तुम्हारे साये के रूप मे
पूर्वार्थ
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"चाँद"
Dr. Kishan tandon kranti
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
■ अटल सौभाग्य के पर्व पर
*प्रणय प्रभात*
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
Ravi Prakash
कुण्डलिया छंद #हनुमानजी
कुण्डलिया छंद #हनुमानजी
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
आनंद से जियो और आनंद से जीने दो.
आनंद से जियो और आनंद से जीने दो.
Piyush Goel
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
रात
रात
sushil sarna
Loading...