Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

गाय

गाय

मेरी प्यारी-सी गाय
सबके मन को भाय.
सीधी-सादी भोली-भाली
श्वेत तन पैर हैं काली.
पैरा, घास वह खाती है
पौष्टिक दूध देती है.
गाय की गोबर से कंडा बनाता
जो इंधन के काम है आता.
उसका बछड़ा बैल बनेगा
जो हमारे खेत जोतेगा.
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
जब सांझ ढले तुम आती हो
जब सांझ ढले तुम आती हो
Dilip Kumar
अपनापन
अपनापन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
अपने सपनों के लिए
अपने सपनों के लिए
हिमांशु Kulshrestha
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ख्याल
ख्याल
अखिलेश 'अखिल'
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
इंसानियत का चिराग
इंसानियत का चिराग
Ritu Asooja
2642.पूर्णिका
2642.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
Loading...