Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

गाना होगा

हों लाख व्यस्ततायें पगले,
पर गान तो निज गाना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा.
***
दिल ढूँढ़े मीत सतत् ख़ुद-सा,
पर नहीं मिला उसको अब तक.
है बहुत अकेला दिल मेरा,
यह बात काश! पहुँचे रब तक.
गर कोई न आये निज दिल तक,
तो स्वयं हमें जाना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा.
***
है छुपी नायिका कहाँ सरस,
पूछे नायक बैठा दिल में.
जो सहज बाँह थामे खुश हो,
निज राह चले ले मंज़िल में.
इक बार जगे इच्छाशक्ति,
ख़ुद शरण उसे आना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा.
***
तुम लाख दूर हो अंतर से,
पर प्रेम तो तुम तक पहुँचेगा.
तुम लाख छुपाओ भाव सरस,
पर गीत को वह ख़ुद वर लेगा.
दिल कैसे पसीजे गोरी का,
यह राज़ हमें पाना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा.
***
संताप सुखों में बदलेंगे,
यह आश सदा ज़िन्दा रखना.
होगा जीवन निज प्रेम-पात्र,
अहसास सदा ज़िन्दा रखना.
बनकरके स्वयं का स्वयं मीत,
दिल में ही हमें छाना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा
***
अंतर में जलाओ प्रेम-दीप,
फैलेगा निश्चित उजियारा.
अंतर को बनाओ सरस सबल,
मत कहो उसे तुम बेचारा.
अंतर में रमे अँधियारे को,
ख़ुद सरस हमें ढाना होगा.
आखिर तो किसी के भी दिल में,
निज प्यार के हित थाना होगा.
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लक्ष्य
लक्ष्य
Suraj Mehra
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
■ प्रश्न का उत्तर
■ प्रश्न का उत्तर
*प्रणय प्रभात*
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
न काज़ल की थी.......
न काज़ल की थी.......
Keshav kishor Kumar
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
पूर्वार्थ
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
उम्रें गुज़र गयी है।
उम्रें गुज़र गयी है।
Taj Mohammad
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
*आई वर्षा देखिए, कैसी है सुर-ताल* (कुंडलिया)
*आई वर्षा देखिए, कैसी है सुर-ताल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
👍बाटी खाने के नियम..😃
👍बाटी खाने के नियम..😃
Rituraj shivem verma
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कई दिन, कई महीने, कई साल गुजर जाते हैं।
कई दिन, कई महीने, कई साल गुजर जाते हैं।
जय लगन कुमार हैप्पी
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बिखर गए ख़्वाब, ज़िंदगी बेमोल लूट गई,
बिखर गए ख़्वाब, ज़िंदगी बेमोल लूट गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...